Importance Dos Command महत्त्वपूर्ण डॉस कमाण्ड

Importance Dos Command का विवरण कमांड से अभिप्राय आदेश है।

अर्थात जिसके द्वारा कंप्यूटर को कार्य करने का आदेश दिया जाता है। उसे कमांड कहते है।

यह दो प्रकार के होते है। (1) Internal (2) External

Importance Dos Command

Internal Dos Command इंटरनल कमाण्ड

उन commands को कहते है। जो कंप्यूटर में पहले से ही होती है। यानि DOS के साथ ही लोड हो जाती है।

जैसे- copy con, md, dir, cls, copy, del, ver, vol, time, date, cd आदि।

External Dos Command एक्सटर्नल कमाण्ड

External Dos Command उन commands को कहते है। जो कंप्यूटर में बाद में Load किये जाते है।

जैसे- edit, chkdsk, scandisk, format, attrib, mode, more, tree, deltree आदि।  

Use Importance Dos Command महत्वपूर्ण कमाण्ड और उनका इस्तेमााालल

C:>DATE :- इस Dos Command के द्वारा हम कंप्यूटर में उपस्थित तिथि (Date) को देख सकते है। और बदल भी सकते है।

C:>TIME :- इस Dos Command के द्वारा हम कंप्यूटर में उपस्थित समय (Time) को देख सकते है। और बदल भी सकते है।

C:>VOL :- इस Dos Command के द्वारा हम कंप्यूटर का सीरियल नम्बर और लेबल देख सकते है। 

C:>VER :- इस Dos Command के द्वारा डॉस का वर्जन अर्थात एडिशन नम्बर देख सकते है।

C:>DIR :- इस कमांड के द्वारा हम कंप्यूटर में उपस्थित फाइलों और डायरेक्टरी के नामो को देख सकते है।

C:>DIR/P :- इस Dos Command के द्वारा हम कंप्यूटर में उपस्थित फाइलों और डायरेक्टरी के नामो को पृष्ठ के अनुसार देख सकते है।

नोट :- यह उस समय होगा जब डिरेक्टर्य और फ़ाइल के नाम एक स्क्रीन से अधिक हो।

C:>DIR/W :- इस Dos Command के द्वारा Directory और फाइलों के नामो को चौड़ाई में देख सकते है।

लेकिन यह कमांड नामों के अलावा जैसे- बाइट तिथि समय आदि को नहीं दिखायेगा।

C:>DIR/P/W :- इस कमांड के द्वारा Directory और फाइलों के नामो को चौड़ाई में पृष्ठ के अनुसार देख सकते है। 

C:>DIR/S :- इस Command के द्वारा हम कंप्यूटर में उपस्थित सभी फ़ाइल और डायरेक्टरी को देख सकते है।

नोट-इस आदेश को रोकने के लिए Ctrl+C दबाएँ।

C:>CLS

इस Dos Command के द्वारा स्क्रीन को Clear कर सकते है।

C:>LABLE :- इस Dos Command के द्वारा हम कंप्यूटर में अपना नाम पहचान के लिए दल सकते है। 

C:>COPY CON FLAH :- इस कमद के द्वारा किसी भी नाम से फ़ाइल तैयार कर सकते है।

कमांड एंटर करते ही करसर दिखाई देगा अब हम कुछ भी लिख सकते है।

इसे सुरक्षित करने के लिए F6 या Ctrl+z बटन के उपयोग करते है। अब जैसे ही एंटर करेंगे C Prompt आ जायेगा।

C:>TYPE FLAH :- इस Dos Command के द्वारा बनी हुई फाइलों के लेख को देख सकते है।

तरीका- Dos Command लिखकर स्पेस डालें और फिर जिस फ़ाइल को देखना है उसका नाम डालें। एंटर करते ही वह फ़ाइल खुल जायेगी।

C:>COPY FLAH ONLINE :- इस Dos Command के द्वारा किसी भी पुरानी फ़ाइल की कॉपी दुसरे नाम से बना सकते है।

तरीका- Dos Command लिख कर स्पेस डालें और फिर पुरानी फ़ाइल का नाम फिर स्पेस फिर वह नाम जिस नाम से कॉपी तैयार करनी है। एंटर करते ही कॉपी तैयार हो जायेगी।

C:>COPY FLAH+TRICK ONLINE :- इस Dos Command के द्वारा एक से अधिक पुरानी फ़ाइल की कॉपी एक जगह किसी नए नाम से बना सकते है।

तरीका- Dos Command लिख कर स्पेस डालें और फिर पुरानी फ़ाइल का नाम फिर + का चिन्ह फिर पुरानी फ़ाइल का नाम फिर स्पेस फिर नयी फ़ाइल का नाम लिख कर एंटर करें।

एंटर करते ही दो फाइलों कि कॉपी नए नाम से तैयार हो जायेगी।

नोट- इस तरह इस चिन्ह (+) के द्वारा जितनी पुरानी फ़ाइल के लेख को जमा करना चाहते है। हर नाम के बीच में ये + चिन्ह लगाकर जमा कर सकते है।

C:>REN FLAH ONLINE –

इस कमांड के द्वारा फ़ाइल के नाम को बदल सकते है। जैसे के हमने FLAH को ONLINE से बदल दिया

इस Dos Command का असल फायेदा उस समय होता है। जब कोई फ़ाइल या फ़ाइल का लेख डिलीट हो जाये।

और उस फ़ाइल को वापस लाना चाहते है। तब ऐसा करने के लिए rename command का उपयोग करते है।

जैसे inpage की एक फ़ाइल computer.inp नाम डिलीट हो गयी है तो उसका बैकअप उसी नाम से होगा।

लेकिन उसका एक्सटनशन computer.inpB01  होगा। अब इस extension को बदल दें।

तरीका- ren computer.inpB01 computer.inp एंटर करते ही बैकअप फ़ाइल असली फ़ाइल में बदल जायेगी।

अब इस फ़ाइल को उस प्रोग्राम में खोल सकते है। जिस प्रोग्राम का यह फ़ाइल है।

इस तरह किसी भी बैकअप फ़ाइल के Extention को बदल कर असली फ़ाइल में बदल सकते है।

लेकिन यह आवश्यक है कि बैकअप फ़ाइल के Extention को उस प्रोग्राम के एक्सटेंशन से बदलें जिस प्रोग्राम कि फ़ाइल है।

नोट- कंप्यूटर अपने आप हर फ़ाइल की उसी नाम से बैकअप फ़ाइल तैयार करते है।

जिसका सिर्फ एक्सटेंशन नाम अलग होता है। इस कारण बैकअप फ़ाइल को बिना बदले खोल नहीं सकते है।

Some Importance Dos Command कुछ महत्वपूर्ण डॉस कमाण्ड

C:>MD SKY :- इस कमांड के द्वारा किसी भी नए नाम से डायरेक्टरी तैयार कर सकते है।

C:>MD LAB :- इस कमांड के द्वारा भी नए नाम से डायरेक्टरी तैयार कर सकते है।

C:>CD SKY :- इस कमांड के द्वारा डायरेक्टरी में जा सकते है।

C:>CHDIR LAB :- इस कमांड के द्वारा भी डायरेक्टरी में जा सकते है।

C:LAB>CD.. :- इस कमांड के द्वारा एक एक कर के Directory से बहार निकल सकते है।

C:CHDIR :- इस कमांड के द्वारा भी Directory से बहार निकल सकते है।

C:LABACADEMYONLINE>CD

इस कमांड के द्वारा एक साथ कई Directory से बहार निकल सकते है।

नोट- इस कमांड के द्वारा हम किसी Directory से बहार निकलते ही दूसरी Directory में जा सकते है।

जैसे- (C:>) सी रूट पर दो डिरेक्टरियां बनी हुई है। (1) LAB (2) SKY और और काम स्काई में हो रहा है।

लेकिन अचानक LAB में जाने की आवश्यकता पड़े तब इस तरह कमांड लिखें। 

C:SKY>CD>LAB – Dos Command

C:LAB> :- इस तरह एक ही समय में दोनों काम हो जायेंगे। वर्ण पहले डायरेक्टरी से निकलना पड़ेगा।

फिर दूसरी डायरेक्टरी में जाना पड़ेगा। और अगर एक डायरेक्टरी के अंदर कई डिरेक्टोरियां बनी हुई है।

जैसे -SKY के अंदर LAB और LAB के अंदर ONLINE और हम ONLINE के अंदर जाना चाहते है। तब कमांड इस तरह टाइप करेंगे। 

C:>CDSKYLABONLINE :- या इस तरह भी कर सकते हैं। 
C:>CD SKYLABONLINE नतीजा- C:CDSKYLABONLINE

C:>CHDIRLAB :- जो काम CD का है।  वही इस काम इस कमांड का है। 

C:>RDSKY :- इस Dos Command के द्वारा हम किसी भी Directory को डिलीट करने के लिए दो बातों का ध्यान में रखना आवश्यक है।

(1) डायरेक्टरी का खली होना (2) डायरेक्टरी से बहार होना। 

C:>RMDIRLAB :- जो काम RD का है वही काम RMDIR का है। 

C:>DELSKY

इस कमांड के द्वारा हम किसी भी फ़ाइल को डिलीट कर सकते है। 

नोट- एक से अधिक फाइलों को डिलीट करने के लिए इस चिन्ह (*) का उपयोग करते है।

अगर अलग अलग हों और एक्सटेंशन नाम एक है।  तब पहले (*) फिर डॉट (.) और फिर एक्सटेंशन नाम लिखें।

जैसे – C:>DEL *.TMP और अगर सभी नाम एक है और Extension name भिन्न है तब पहले नाम और फिर डॉट और फिर * लगाये।

जैसे – C:>DEL LAB.* एंटर करते ही इस एक्सटेंशन नाम वाली सभी फ़ाइल एक साथ मिट जायेगी। 

C:>UNDELETE LAB :- इसके द्वारा Delete की गई फाइल्स को वापस ला सकते है। 

C:>MORE<LAB :- इस के द्वारा लाबी फ़ाइल के लेख को जो एक स्क्रीन से अधिक हो रोक रोक कर देख सकते है। 

नोट – इस तरह भी कमांड टाइप कर सकते है।

C:>TYPE LAB|MORE :- (|) यह चिन्ह लेने के लिए शिफ्ट के साथ बैक शलेश बटन दबाएं।

C:>Find “God” LAB/n :- बनी हुई फ़ाइल के लेख में से किसी भी अक्षर शब्द के बारे में पता लगा सकते है। कि वह किन किन लाइन में है। और लाइन नंबर क्या है। 

C:>Attrib +h LAB

इस Dos Command के द्वारा डायरेक्टरी और फ़ाइल के नाम को छुपा सकते है। 

नोट- अब जब हम DIR Dos Command चलाएंगे तब वह फ़ाइल या डायरेक्टरी जिसका नाम हमने दिया है। फ़ाइल और डायरेक्टरी के नाम की लिस्ट से हट जायेगी। 

1- C:>Attrib -h LAB :- इस Dos Command के द्वारा छुपी हुई डायरेक्टरी को या फ़ाइल को वापस ला सकते है। अब DIR कमांड से देखेंगे तब मौजूद होगी। 

2- C:>Attrib +R LAB :- इस Dos Command के द्वारा Read Only फ़ाइल बनाते है।

अर्थात अब हम इस फ़ाइल में किसी भी तरह का बदलाव नहीं कर सकते यह फैल लॉक हो जाती है। 

3- C:>Attrib -R LAB :- इस कमांड के द्वारा Read Only फ़ाइल में बद्लाव कर सकते है। अर्थात लॉक खत्म कर सकते हैं। 

C:>DIR/ON :- इस कमांड के द्वारा डायरेक्टरी और फाइल के नाम को वर्ण के ऐतेबार से सिलसिलेवार देख सकते है।

यानि A से शुरू होने वाली नामो को पहले फिर B वालों को इस तरह क्रम वर देख सकते है। 
C:>DIR/O-N :- इस कमांड के द्वारा डायरेक्टरी और फाइल के नाम को उलटे क्रम से देख सकते है।

यानि Z से शुरू होने वाली नामो को पहले फिर Y वालों को इस तरफ A तक के नामो को दिखायेगा। 

C:>DIR/OE :- इस कमांड के द्वारा extension नाम को A की तरफ से क्रमवार देख सकते है।

C:>DIR/O-E :- इस कमांड के द्वारा extension नाम को A to Z  उलटे क्रमवार देख सकते है।

C:>DIR/AD :- इस कमांड के द्वारा सिर्फ Directory  के नाम को  देख सकते है।

C:>DIR/A-D :- इस कमांड के द्वारा सिर्फ फ़ाइल  के नाम को  देख सकते है।

C:>DIR/OG :- यह पहले डायरेक्टरी के नामो को फिर फ़ाइल के नामो को दिखायेगा। 

C:>DIR/AH :- यह सिर्फ छुपी हुई डायरेक्टरी और फाइल्स को दिखायेगा।

C:>DIR/AR 

यह Dos Command सिर्फ Read Only फ़ाइल को दिखायेगा।

C:>DIR/OS :- यह सिर्फ फाइलों के नामो को साइज़ के अनुसार सीधे क्रम से दिखायेगा। यानि पहले बड़े को फिर उससे छोटे को।

C:>DIR/O-S :- यह ऊपर वाले कमांड के विपरीत है। यानि उलटे क्रम से दिखायेगा।

C:>DIR/OD :- यह फाइलों के नामो को तिथि के अनुसार सीधे क्रम से दिखायेगा।

C:>DIR dir-name :- इस कमांड के द्वारा किसी ख़ास डायरेक्टरी के अंदर मौजूद फाइलों और डिरेकटरी के नामो को देख सकते है।

नोट- dir-name की जगह डायरेक्टरी का नाम लिखें।

C:>DIR File-name :- यह किसी ख़ास फ़ाइल के नामो को देखने के लिए है।

C:>Sort :- अस्थाई तौर पर लेख लिखने के लिए इसका उपयोग करते है।

जैसे Ctrl+Z बटन दबाकर एंटर करेंगे उसकी कॉपी लाइन के क्रम से दिखायेगा। यद्यपि लेखन में लाइन में दूरी दे रखी है। लेकिन यह फ़ाइल save नहीं होगी।

C:>Sort >SKY :- यह कमांड Copy con की तरह है। अंतर यह है कि कमांड लेख को लाइन के क्रम से उस नाम में Save करेगा जो हमने दे रखा है।

इसे हम Type Command के द्वारा देख सकते है।

C:>Sort >>SKY :- किसी भी पुराणी फ़ाइल में अतिरिक्त लेख कि बढ़ोतरी कर सकते है।

फिर Type Command से देखें तो यह लेख भी लाइन के क्रम से दिखाई देगी।  लेकिन यह बढ़ोतरी वाला लेख और पुराने लेख को अलग अलग क्रम देगा।

C:>Sort <SKY :- यह Type Command की तरह है जिस के द्वारा फ़ाइल के लेख को लाइन के क्रम के अनुसार देख सकते है।

C:>Xcopy LAB ONLINE

इसके द्वारा डायरेक्टरी के अंदर बनी हुई फ़ाइल की कॉपी किसी भी नाम से तैयार कर सकते है।

एंटर करते ही यह हम से पूछेगा कि इस नए नाम को डायरेक्टरी बनानी है। या फ़ाइल। अगर फ़ाइल बनानी है।

तब F दबा कर वर्ण D दबाएँ तो Directory बन जायेगी। इससे सिर्फ फ़ाइल की कॉपी होगी डायरेक्टरी की नहीं।

C:>Xcopy LAB ONLINE /S :- इस कमांड के द्वारा डायरेक्टरी के अंदर बनी हुई फ़ाइल के साथ डायरेक्टरी भी कॉपी कर सकते है।

अर्थात पूरी डायरेक्टरी की कॉपी करने के लिए उपयोग होता है। लेकिन अगर कोई खली डिरेकटरी होगी तो उसकी कॉपी नहीं करेगा।

C:>Xcopy LAB ONLINE /P :- यह फ़ाइल की कॉपी करने से हले जानकारी लेगा कि उस फ़ाइल की कॉपी करनी है। या नहीं। अगर करनी है तब Y वरना N दबाएँ।

C:>Move LAB ONLINE :- इस Dos Command का उपयोग एक या एक से अधिक फ़ाइल या डायरेक्टरी को एक जगह से दूसरी जगह किसी भी नाम से लेन के लिए होता है।

नोट- जितनी भी फ़ाइल को लाना चाहते है। हर फ़ाइल के नाम के बीच में (+) का चिन्ह लगाएं। और अंत में वह नाम डालें जिसमे रखना है।

जैसे – C:>Move Lab+Over+All+Mau+Online इससे सभी फ़ाइल Online नाम से डायरेक्टरी में पहुँच जायेगी।

C:>Deltree ONLINE :- इस Dos Command का उपयोग उन डिरेकटरी को डिलीट करने के लिए होता है।

जिनके अंदर कोई फ़ाइल या डायरेक्टरी हो इस तरह कि डायरेक्टरी को सब डिरेकटरी कहते है।

C:>Print SKY :- इस Command के द्वारा किसी भी फ़ाइल का प्रिंट ले सकते हैं।

Batch File Dos Command बैच फ़ाइल डॉस कमाण्ड

C:>copy con LAB.bat :- इसे बैच फ़ाइल कहते हैं। इसके द्वारा विभिन्न कमांड को एक जगह इकठ्ठा कर सकते है।

इसका उपयोग उस जगह करते है। जहा हमे प्रतिदिन एक ही प्रकार के कमांड चलने पड़ते है।

और हम यह चाहते हैं कि हमे इन कमांडो को प्रतिदिन लिखने कि आवश्यकता न पड़े।

ऐसा करने के लिए इन Dos Command की बैच फ़ाइल बनाते हैं। जिसका Extension नाम bat होता है।

तरीका – C:>copy con LAB.bat  Time Date Dir^ Z Ctrl+Z दबाने के बाद एंटर करें। बैच फ़ाइल तैयार हो जायेगी।

अब इसे चलने के लिए सी प्रॉम्प्ट पर सिर्फ उस फ़ाइल का नाम लिखें जिस नाम से बैच फ़ाइल बनायीं है। एंटर करते ही रिजल्ट दिखायेगा।

C:>DOSKEY :- यह Dos Command डॉस में कार्य करते समय जितनी कमांड उपयोग में लायी जा रही है।

उसे कंप्यूट की मेमोरी में अस्थाई तौर पर सुरक्षित करने के लिए उपयोग की जाती है। ताकि जब हम उन Dos Command का उपयोग करना चाहें Arrow Key के द्वारा  प्राप्त कर सकते है।

C:>D: :-किसी भी ड्राइव में जेन के लिए चिन्ह (:) का उपयोग करते है। जैसे – A:B:C:D: आदि। 

C:>Prompt LAB :- Prompt की जगह नाम, तिथि, समय, आदि लेने के लिए उपयोग की जाती है।

LAB की जगह $T टाइप करेंगे तो Prompt समय में बदल जायेगा। और $D टाइप करेंगे तो Prompt तिथि में बदल जायेगा।

अब दोबारा C:>Prompt लेने के लिए उसके आगे इस तरह कमांड दें। Prompt $p$g एंटर करते ही C:>Prompt आजायेगा। 

नोट– इस चिन्ह ($) को डॉलर कहते है।

C:>Tree :- अगर यह Dos Command कंप्यूटर में लोड है।  तो इस कमांड के द्वारा डायरेक्टरी को पेड़ के रूप में देख सकते है, वर्ना नहीं।

और इस तरह C:>Tree /F Command लिखने से डायरेक्टरी के साथ फ़ाइल के नाम को भी देख सकते है।

WILD CARD Command वाइल्ड कार्ड डॉस कमाण्ड

WILD CARD दो तरह के हैं। (1) Star (*)   (2) Questions Mark (?)
इस चिन्ह का उपयोग हम उन अक्षरों या शब्दों की जगह करते हैं। जो हमें याद नहीं है।

नोट – एक Question Mark (?) एक अक्षर के बराबर होता है और एक Star (*) एक शब्द के बराबर होता है।

कंप्यूटर की भाषा में जितने अक्षर लिख कर स्पेस दबाएँगे वह एक शब्द कहलायेगा।

C:>DIR Z*.* :- यह Z से शुरू होने वाली सभी फ़ाइल को दिखायेगा। इस तरह अगर हम नाम भूल गए और Extension Name यद् है।

तो नाम की जगह Star (*) फिर Dot (.) फिर Extension Name लिखेंगे।

जैसे – C:>dir *. अब इस Extention से जितनी फ़ाइल होंगी सभी दिखायी देगी।
और अगर फ़ाइल का नाम यद् है।

लेकिन Extension नाम याद नहीं तो इस तरह कमांड देंगें। C:>dir lab.*

C:>DIR Z?????.*

इस Dos Command के द्वारा हम उन फ़ाइल के नाम को देख सकते है। जिनके कुछ अक्षर हमे याद नहीं है।

जितने अक्षर याद नहीं है। उन अक्षरों की जगह पर Question Mar (?) लगाएं।

नोट- उन सभी फ़ाइल के नाम को भी दिखायेगा जिनके अंदर वह अक्षर पाया जायेगा। जो हमने लिखा है।

लेकिन यह आवश्यक है कि नाम में उतने ही अक्षर हो जितने अक्षर हमने Question Mark (?) लगाये है।

C:>SET :- इसके द्वारा कंप्यूटर के काम करने के रास्ते प्रांप्ट आदि का पता लगते है।

C:Mode co40 :- इसके द्वारा स्क्रीन के आकार-प्रकार को बदल सकते है।

C:>Mode co80
C:>Mode mono 
नोट – इस Dos Command का लाभ Edit कमांड चलाने पर पता चलेगा।

C:>Edit Lab :- जिस तरह Copy con से फ़ाइल बनाते है। उसी तरह एडिट से भी फ़ाइल बना सकते है।

अंतर यह है कि Copy con से फ़ाइल बनाते हुए नाम उसी समय देना है। लेकिन एडिट में हम नाम पहले या फिर बाद में Save करते समय दे सकते है।

Edit Dos Command से copy con के द्वारा बनाई गई फ़ाइल में परिवर्तन भी कर सकते है।

तरीका- जैसे ही Edit लिखकर एंटर करेंगे हमारे सामने एक नई तरह कि स्क्रीन खुल जायेगी जिसमे विभिन्न मेनू होंगे।

जिनके द्वारा हम अपनी फ़ाइल की कॉपी तैयार कर सकते है। प्रिंट कर सकते है।

स्क्रीन का रंग बदल सकते है। अपने लेख में से किसी भी शब्द को ढूंढ कर उसे बदल सकते है।

Leave a Comment